BSc Zoology Male Reproductive Organs Question Answer Notes

BSc Zoology Male Reproductive Organs Question Answer Notes

 

BSc Zoology Male Reproductive Organs Question Answer Notes :- In this post all the questions of the second part of zoology are fully answered. This post will provide immense help to all the students of BSc zoology. All Topic of zoology is discussed in detail in this post.

 


 

 

प्रश्न 4 – पैलीमोन के जनन अंगों का वर्णन कीजिए।

Describe the reproductive organs of Palaemon. 

उत्तर –  

पैलीमोन के जननांग

(Reproductive Organs of Palaemon)

पैलीमोन के जननांगों का वर्णन निम्न प्रकार हैं

नर जनन अंग (Male Reproductive organs) Notes

पैलीमोन के नर जननांग निम्न प्रकार है _

  1. एक जोड़ी वृषण, 2. एक जोड़ी शुक्रवाहिनियाँ, 3. एक जोड़ी शुक्राशय।
  2. वृषण (Testes)—दो वृषण वक्ष के पिछले भाग में मध्य-पृष्ठ रेखा पर हिपैटोपैन्क्रियास के ऊपर और पेरीकार्डियम के नीचे स्थित होते हैं। ये आगे की ओर रीनल सैक तथा पीछे प्रथम उदर खण्ड तक फैले रहते हैं। इनका रंग सफेद होता है। इनके अगले सिरे मिलकर एक हो जाते हैं, परन्तु पिछले सिरे एक-दूसरे के बिल्कुल समीप होते हैं। दोनों वृषणों कबाच में एक दरार होती है, जिसमें से होकर हृदय को कार्डियक-आमाशय से जोड़ने वाला कार्डियोपाइलोरिक स्टैण्ड गुजरता है।

    Male Reproductive Organs
    Male Reproductive Organs

प्रत्येक वृषण अनेक लम्बी, सँकरी तथा कुण्डलित सेमिनिफेरस नलिकाओं का बना | होता है। इनके बीच संयोजी ऊतक रहता है। प्रत्येक सेमिनिफेरस नलिका भ्रूणीय एपिथीलियम के एक स्तर द्वारा आस्तरित रहती है। इसकी कोशिकाएँ अर्द्धसूत्रण विधि द्वारा विभाजित होकर शुक्राणुओं का निर्माण करती हैं।

शुक्राणु में गोलाकार शरीर तथा एक छोटी-सी कुन्द (blunt) पूँछ होती है।

  1. शक्रवाहिनियाँ (Vasa deferentia)—प्रत्येक वृषण के पिछले भाग से एक लम्बी, कुण्डलित तथा सँकरी शुक्रवाहिनी निकलती है। प्रत्येक शुक्रवाहिनी निकलते ही एक अत्यन्त कुण्डलित पुंज बनाती है तथा इसका सीधा भाग ऊर्ध्व-तल में उदर की फ्लेक्सर पेशियों तथा वक्ष की दीवार के बीच से नीचे की ओर बढ़ता है और भीतर की ओर चलकर अपनी ओर के शुक्राशय में खुलता है।
  2. शक्राशय (Seminal vesicles)-प्रत्येक शुक्रवाहिनी का दूरस्थ भाग पाँचवीं जोड़ी टाँग के कोक्सा के समीप फूलकर एक सुन्दर आकार का शुक्राशय बनाता है। शुक्राशय नर जनन छिद्र द्वारा बाहर खुलता है जो कि पाँचवीं टाँग के कोक्सा पर भीतर की| ओर स्थित होता है। प्रत्येक छिद्र एक छोटे ढाँपन द्वारा ढका रहता है। शुक्राशय में शुक्राण, एकत्रित रहते हैं।

मादा जनन अंग

(Female Reproductive organs) Notes 

पैलीमोन के मादा जननांग निम्न प्रकार हैं

  1. एक जोड़ी अण्डाशय,
  2. एक जोड़ी अण्डवाहिनियाँ।
  3. अण्डाशय (Ovaries)—दोनों अण्डाशय वक्ष के पिछले भाग में मध्य-पृष्ठ तल पर हिपैटोपैन्क्रियास के ऊपर तथा पेरिकार्डियम के नीचे स्थित होते हैं। ये आगे की ओर रीनल सैक तथा पीछे प्रथम उदर खण्ड तक फैले रहते हैं। दोनों अण्डाशयों के सिरे आपस में एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं किन्तु मध्य में एक दरार होती है जिससे होकर कार्डियोपाइलोरिक स्ट्रैण्ड गुजरता है। जन्तु की आयु तथा जनन काल के अनुसार अण्डाशयों का परिमाण भिन्न-भिन्न होता है। अण्डाशय एक सम्पुट (capsule) में बन्द रहता है। प्रत्येक अण्डाशय में अण्डों की बहुत-सी अरीय पंक्तियाँ होती हैं। प्रत्येक पंक्ति में अण्डे वर्धन की विभिन्न अवस्थाओं में क्रमानुसार लगे रहते हैं। परिपक्व अण्डे परिधि की ओर होते हैं तथा अपरिपक्व अण्डे केन्द्र की ओर होते हैं।

    Male Reproductive Organs
    Male Reproductive Organs

प्रत्येक अण्डा एक बड़ी, केन्द्रकयुक्त कोशिका है जिसमें योक अत्यधिक मात्रा में संचित रहता है।

  1. अण्डवाहिनी (Oviducts)—प्रत्येक अण्डाशय की बाहरी सतह के मध्य से एक छोटी, चौड़ी एवं पतली भित्ति वाली अण्डवाहिनी निकलती है। अण्डवाहिनी नीचे की ओर सीधी बढ़कर मादा जनन छिद्र द्वारा बाहर खुलती है। मादा जनन छिद्र तीसरी टाँग के कोक्सा की भीतरी सतह पर स्थित होता है।

 


Follow me at social plate Form

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *