Zoology Alternation of Generations Metagenesis Question Answer

Zoology Alternation of Generations Metagenesis Question Answer

Zoology Alternation of Generations  Metagenesis Question Answer

 

Zoology Alternation of Generations Metagenesis Question Answer :- This Post is very Usefull For All Student of Zoology 1st Year in this post you will find all the information related to Zoology 1st year and important facts about Zoology have been discussed in this post.

 


 

प्रश्न 4 – पीढ़ियों के एकान्तरण से आप क्या समझते हैं? इसे ओबीलिया के जीवन- इतिहास से समझाइए।

What do you understand by Alternation of Generations ?’ Explain it with reference to the life-cycle of Obelia. 

अथवा ओबीलिया के जीवन-चक्र का उल्लेख कीजिए।

Describe the life cycle of Obelia. 

अथवा मेटाजेनेसिस पर टिप्पणी कीजिए।

Write note on Metagenesis. 

उत्तर –

पीढ़ियों का एकान्तरण तथा मेटाजेनेसिस

(Alternation of Generations and Metagenesis) 

Study Notes

पीढ़ियों के एकान्तरण में एक द्विगुणित अलैंगिक प्रावस्था और दूसरी अगुणित लैंगिक प्रावस्था नियमित रूप से एक के बाद दूसरी आती रहती है। ओबीलिया का जीवन-वृत्त निवाही हाइड्राभ (hydroid) तथा एकल मेड्यूसाभ (medusoid) प्रावस्थाओं के एकान्तरण को परिघटना को प्रदर्शित करता है। इसका हाइड्राभ स्थानबद्ध तथा लिंगविहीन होता है जिसमें जनन ग्रन्थियों का अभाव होता है। इससे मुकुलन (budding) की अलैंगिक विधि द्वारा  मेड्यूसी बनता हैं। मेड्यूसी लैंगिक विधि द्वारा अर्थात् अण्डाणु एवं शुक्राणु उत्पन्न करके लैंगिक विधि से जनन करती हैं जिससे नये हाइड्राभ निवह बनते हैं। इसी वास्तविकता के कारण ही सीलेन्ट्रेट प्राणियों में पीढ़ी एकान्तरण का विचार उत्पन्न हुआ जिसे मेटाजेनेसिस भी कहते हैं।

मेटाजेनेसिस (Metagenesis)-ओबीलिया के जीवन-वृत्त में स्थानबद्ध हाइड्राभ और मुक्त प्लावी मेड्यूसाभ के बीच नियमित एकान्तरण होता है, परन्तु ये दोनों ही द्विगुणित होते हैं। इस प्रकार दो डिप्लॉयड प्रावस्थाओं के बीच होने वाले एकान्तरण को मेटाजेनेसिस कहा गया है।

ओबीलिया का जीवन-इतिहास

(Life-cycle of Obelia) Notes

ओबीलिया निवह · मुकुलन (अलैंगिक जनन) विधि द्वारा, हाइड्रोमूलों (hydrorhiza) से नये हाइड्रोस्तम्भ (hydrorhiza) फूटते है जिससे जीविकों की संख्या बढ़ती है। ब्लास्टोस्टाइल जनन जीवक हैं जो मुकुलन द्धारा ही मेड्यूसी  (medusae) को बनाते हैं।

मेड्यूसी लैंगिक (जनन) जीवक होते हैं क्योंकि इनमें जनन ग्रन्थियाँ होती हैं। ये मुक्त प्लावी तथा एकलिंगी होती हैं। जनन ग्रन्थियाँ subumbrella तल पर प्रत्येक अरीय नाल के मध्य में स्थित होती हैं। जनन ग्रन्थियाँ अरीय नालों के अधर diverticula (अंधवर्ध) के रूप में विकसित होती हैं। जब मेड्यूसा गोनोथीका से बाहर आ जाती है तब जनन ग्रन्थियाँ परिपक्व होती हैं। परिपक्व जनन ग्रन्थियों की बाहरी अधिचर्म फट जाती है और युग्मक (gemetes) जल में मुक्त हो जाते हैं।

Alternation of Generations Metagenesis
Alternation of Generations Metagenesis

निषेचन (Fertilization) यह क्रिया या तो समद्री जल में या मादा मेड्यूसा के शरीर में होती है। मेड्यूसा युग्मकों को मुक्त करने के बाद तुरन्त मर जाती है।

परिवर्धन (Development) – जाइगोट (युग्मनज) में विदलन holoblastic व  समान होता है जिससे एक गोल एवं ठोस मोरूला बन जाता है। मोरूला बाद में विदलन द्धारा ही एक खोखले ब्लास्टुला में बदल जाता है। ब्लास्टुला की गुहा को ब्लास्टोसील तथा चारों इसके चारों ओर की कोशिकाओं को ब्लास्टोमियर्स कहते हैं।

गैस्टुला (Gastrula)-ब्लास्टोमियर्स के भीतरी सिरे से नयी कोशिकाएँ बनती हैं और ये अलग होकर ब्लास्टोसील को भरती रहती हैं। अन्त में पूरी ब्लास्टोसील इन कोशिकाओं से भर जाती  है। भ्रण अब एक ठोस गैस्टुला या स्टीरिओगैस्टुला कहलाता है। इसके बाहरी स्तर को एक्टोडर्म तथा भीतरी स्तर को एण्डोडर्म कहते हैं।

प्लैनला लारवा (Planula larva)-अब गैस्ट्रला लम्बाई में बढ़ता है और एक्टोडर्म कोशिकाओं में पक्षाभ बन जाते हैं जिससे एक मुक्त प्लावी प्लैनुला लारवा बन जाता है। प्लैनुला का अगला सिरा पिछले सिरे की अपेक्षा चौड़ा होता है।

शीघ्र ही इसकी ठोस एण्डोडर्म में विस्तरण क्रिया (delamination) द्वारा ही गुहिका आधांत्र (enteron) बन जाती है। प्लैनुला अब द्विस्तरी लारवा बन जाता है-बाहरी पक्षाभित एक्टोडर्म तथा भीतरी एण्डोडर्म।

कुछ समय तक मुक्तप्लावी जीवन के पश्चात् यह लारवा जल में नीचे डूब जाता है और. अपने अगले सिरे द्वारा किसी ठोस पदार्थ पर चिपक जाता है। अब इसमें कायान्तरण (metamorphosis) होता है। इसका प्रारम्भिक सिरा चिपकने के लिए आधारी डिस्क . (basal disc) बनाता है और दूरस्थ स्वतन्त्र सिरे पर मुख सहित एक मैनुब्रियम और स्पर्शकों का एक वृत्तक (circlet) उत्पन्न हो जाता है। अब लारवा एक सामान्य पॉलिप के समान दिखायी देने लगता है। इसे हाइडुला कहते हैं।

हाइड्ला अलैंगिक मुकुलन (asexual budding) प्रक्रिया द्वारा धीरे-धीरे ओबीलिया निवह में बदल जाता है।

इसी प्रकार ओबीलिया में निरन्तर अलैंगिक एवं लैंगिक पीढ़ियों का एकान्तरण .. (मेटाजेनेसिस) होता रहता है।


Follow me at social plate Form

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *