Law Of Independent Assortment Zoology Question Answer

Law Of Independent Assortment Zoology Question Answer

 

Law Of Independent Assortment Zoology Question Answer :- In this post all the questions of the second part of zoology are fully answered. This post will provide immense help to all the students of BSc zoology. All Topic of zoology is discussed in detail in this post.

 


 

प्रश्न 3 – मेण्डल द्वारा दिया गया वह नियम स्पष्ट कीजिए जो द्विसंकर संकरण पर आधारित था। 

Explain that law of Mendel which was based on Dihybrid cross.

अथवा द्विसंकर संकरण से आप क्या समझते हैं? स्वतन्त्र अपव्यूहन के नियम को द्विसंकर की सहायता से समझाइए। 

What do you mean by dihybrid cross ? Explain law of independent assortment with help of dihybrid cross. 

उत्तरस्वतन्त्र अपव्यूहन का नियम (Law of Independent Assortment)-यह नियम मेण्डल के द्विसंकर तथा बहुसंकर संकरण प्रयोगों पर आधारित है। मेण्डल ने देखा कि जब पीले तथा गोलाकार बीजों वाले मटर के पौधे को हरे तथा झुरौंदार बीजों वाले मटर के पौधे के साथ संकरित किया गया तब F1 पीढ़ी में सभी पौधे पीले तथा गोलाकार बीजों वाले थे। इससे सिद्ध होता है कि पीला रंग हरे रंग पर जबकि गोलाकार झुरींदार आकार पर प्रभावी है। जब F, पीढ़ी के पौधों में स्वनिषेचन कराया गया तो F, पीढ़ी में चार प्रकार के नए संयोजन प्राप्त हुए

(1) पीले तथा गोलाकार बीजों वाले पौधे

(2) हरे तथा झुर्शीदार बीजों वाले पौधे

(3) पीले तथा झरौंदार बीजों वाले पौधे

(4) हरे तथा गोलाकार बीजों वाले पौधे।

पीले गोल, पीले झुरींदार, हरे गोल तथा हरे झरींदार चारों प्रकार के बीजों में क्रमशः 9:3:3:1 का समलक्षणी अनुपात (Phenotypic ratio) उपस्थित था। उपर्युक्त परिणाम  से यह सिद्ध होता हैं। कि प्रत्येक लक्षण का जीन दूसरे से अलग होता है एवं किसी भी लक्षण के जीन के साथ सवतन्त्रतापूर्वक जुडकर नए संयोजन बनाने में समर्थ होता हैं।

Law Of Independent Assortment
Law Of Independent Assortment

 


Follow me at social plate Form

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *