Draw Circuit Diagram Emitter follower and Explain Operation

Draw Circuit Diagram Emitter follower and Explain Operation

Draw Circuit Diagram Emitter follower and Explain Operation:-Input and output impedance, transistor as an oscillator, general discussion, and theory of Hartley oscillator only. Elements of transmission and reception, basic principles of amplitude modulation and demodulation. Principle and design of linear multimeters and their application, cathode ray oscilloscope, and its simple applications.

 

प्रश्न 27. उत्सर्जक फौलोअर का परिपथ आरेख बनाइए तथा इसकी कार्य-विधि समझाइए। 

Draw the circuit diagram of an emitter follower and explain its operation. 

 

उत्तर : उत्सर्जक फौलोअर (Emitter Follower)-उत्सर्जक फौलोअर एक उपयोगी ऋणात्मक धारा पुनः निविष्ट परिपथ है। इसके सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण अभिलक्षण इसकी उच्च निवेशी प्रतिबाधा तथा निम्न निर्गत प्रतिबाधा हैं। इस प्रकार यह प्रतिबाधा प्रतितुलन के लिए एक आदर्श परिपथ है।

 

उत्सर्जक फौलोअर का परिपथ चित्र-68 में दर्शाया गया है। यह एक उभयनिष्ठ उत्सर्जक प्रवर्धक परिपथ है जिसमें से संग्राहक लोड प्रतिरोध RC तथा उत्सर्जक उपमार्गी संधारित्र CE हटा लिए गए हैं। उत्सर्जक प्रतिरोधक RE स्वयं ही लोड का कार्य करता है तथा इसी के सिरों के बीच निर्गत a.c. वोल्टेज Vout प्राप्त किया जाता है। बायसिंग के लिए विभव विभाजक विधि अथवा आधार प्रतिरोधक विधि प्रयुक्त की जाती है।

Draw Circuit Diagram Emitter follower and Explain Operation

 

 

कार्य-प्रणाली (Operation)-निवेशी a.c. वोल्टेज सिगनल Vin ट्रांजिस्टर के आधार B तथा उत्सर्जक E के बीच लगाया जाता है। इससे उत्पन्न प्रत्यावर्ती धारा iE, उत्सर्जक प्रतिरोधक RE में प्रवाहित होती है तथा इसके सिरों के बीच निर्गत वोल्टेज Vout (iE RE) स्थापित करती है। यह वोल्टेज निवेशी वोल्टेज का विरोधी है (180° का कलान्तर) और इस कारण ऋणात्मक पुनः निविष्ट (negative feedback) प्रदान करता है। चूंकि निर्गत वोल्टेज Vout जो कि निवेशी वोल्टेज में पुनः निविष्ट होता है, उत्सर्जक धारा के अनुक्रमानुपाती है, अत: यह परिपथ ऋणात्मक धारा पुनः निविष्ट परिपथ कहलाता है।

 

निवेशी वोल्टेज Vin के धनात्मक अर्द्धचक्र के दौरान निर्गत वोल्टेज Vout का भी धनात्मक अर्द्धचक्र प्राप्त होता है। इस प्रकार उत्सर्जक के सिरों के बीच निर्गत वोल्टेज सदैव निवेशी वोल्टेज के अनुगामी रहता है। इसलिए इस परिपथ को उत्सर्जक अनुगामी (emitter follower) कहते हैं।

 


Zoology

Inorganic Chemistry

Lower Non-Chordata

Video Lecture

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *