Applications Of Microbiology BSc 1st Year Botany Notes

Applications Of Microbiology BSc 1st Year Botany Notes

 

Applications Of Microbiology BSc 1st Year Botany Notes :- BSc 1st Year Botany  Bacteria And Fungi Diversity of Viruses Notes. This Post is very useful for all the Student Botany. This post will provide immense help to all the students of BSc Botany.

 


प्रश्न 14 – सूक्ष्मजैविकी की उपयोगिता पर एक निबन्ध लिखिए।

उत्तर

सूक्ष्मजैविकी की पयोगिता 

(Applications of Microbiology) ___

मानव के लिए सूक्ष्मजैविकी के काफी उपयोग हैं। उनमें से कुछ मुख्य उपयोग इस प्रकार है –

  1. दूध से बनी चीजें (Milk Products)

  2. मक्खन (Butter)-दूध से butter बनाने में जीवाणु काम आते हैं; जैसे Streptococcus lactis तथा Leuconostoc citrivorum! आदि।
  3. पनीर (Cheese)—यह पाश्चुराइजेशन की प्रक्रिया से बनाया जाता है। इसके बनने | में काम आने वाले सूक्ष्म जीव हैं- Streptococcus lactis, S. cremoris, Leuconostoc citrivorum तथा Penicillium camemberti आदि।
  4. दही (Curd)-दूधं से दही बनाने में जो सूक्ष्म जीव काम में आते हैं, उनमें से प्रमुख हैं-Lactobacillus cocci, L. fermatis, Streptococcus lactis तथा S. cremoris आदि।
  5. ऐल्कोहॉलिक पेय पदार्थ (Alcoholic Beverages)
  6. एथिल ऐल्कोहॉलचीनी में Fermentation के लिए यीस्ट (Saccharomyces cerevisiae) डाला जाता है जो कि इसे alcohol तथा CO2 में बदल देता है जाते हैं।

C.H,,O Yeast, 2C,H-OH + 2CO,T

  1. बीयर तथा वाइनबीयर बनाने में Aspergillus oryzae काम में आता है, लेकिन वाइन (शराब) बनाने में Saccharomyces ellipsoideus काम में आता है।

III. बेकिंग उद्योग में (In Baking Industry)  

विभिन्न प्रकार के बिस्कुट, ब्रेड आदि बनाने के लिए भी कई प्रकार के यीस्ट तथा दूसरे सूक्ष्म जीव काम में आते हैं।

  1. एन्जाइम अथवा विकर बनाने में (In Enzyme Production) 

डायस्टेज, प्रोटिएज, पेक्टिनेज, पेनिसिलीनेज आदि बनाने में कुछ कवक काम में आते हैं: जैसे-Saccharomyces cerevisiae, Aspergillus niger तथा A. oryzae आदि।

  1. प्रतिजैविक अथवा एण्टीबायोटिक बनाने में (In Antibiotic Production) 

लगभग सभी antibiotics सूक्ष्म जीवों से ही बनती हैं। इनमें प्रमुख हैं Streptomycin, Penicillin, Bacitracin, Tetracycline आदि।

  1. कार्बोनिक अम्ल बनाने में (In Organic Acid Production) 

विभिन्न सूक्ष्म जीवों की प्रक्रिया से ही लैक्टिक अम्ल, साइट्रिक अम्ल, फ्यूमेरिक अम्ल आदि बनते हैं।

VII. खाने के काम में (As Food) 

बहुत-से सक्ष्म जीव खाने के काम में भी आते हैं। इनमें Yeast, Chlorella. Nostoc आदि प्रमुख हैं।

  1. भोजन में पाए जाने वाले सूक्ष्म जीव (Microbes of Food)-जिस भोजन को हम खाते हैं यदि उसे कुछ समय के लिए खुला छोड़ दिया जाए, तब यह खट्टा हो जाता है। यह बात फलों, जैम आदि के साथ भी लागू होती है। यह खट्टापन केवल इस कारण से होता है क्योंकि इन पदार्थों में पाए जाने वाले सूक्ष्म जीव इन्हें खट्टा कर देते हैं। हमारे भोजन में पाए जाने वाले कुछ प्रमुख सूक्ष्म जीव हैं-Rhizopus, Aspergillus niger, Penicillium, Bacillus subtilis, Clostridium, Pseudomonas, Lactobacillus आदि।
  2. दूध के सूक्ष्म जीव (Microbes of Milk)-जानवरों (गाय, भैंस) से तुरन्त निकलने वाला दूध sterile होता है लेकिन जैसे ही यह बाल्टी या दूध निकालने वाले के हाथों से छूता है, इसमें सूक्ष्म जीव प्रवेश कर जाते हैं। दूध में पाए जाने वाले कुछ प्रमुख सूक्ष्म जीव हैं-Lactobacillus, Clostridium, Streptococcus, Pseudomonas आदि। … सूक्ष्मजैविकी के कुछ उपयोग निम्नलिखित हैं

(1) सामूहिक स्वास्थ्य में, (2) सफाई (sanitation) में, (3) सीवेज सफाई (sewage disposal) में, (4) अन्तरिक्ष की खोजों में, (5) बहुत-सी औद्योगिक इकाइयों तथा खेती में।

उपर्युक्त विश्लेषण से यह सिद्ध हो जाता है कि सूक्ष्म जीव प्रकृति में सामान्यतः सभी जगह पाए जाते हैं।

 


Follow me at social plate Form

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *