Reproduction In Yeast BSc Botany Question Answer Notes

Reproduction In Yeast BSc Botany Question Answer Notes

 

Reproduction In Yeast BSc Botany Question Answer Notes :- This post will provide immense help to all the students of BSc Botany 1st Year  All PDF Free Download All Notes Study Material Previous Question Answer . You will get full information Related to BSc Botany in over site. In this post I have given all the information related to BSc Botany Completely.

 


प्रश्न 10 – यीस्ट में कायिक अलैंगिक जनन तथा आर्थिक महत्त्व का वर्णन कीजिए।

उत्तर

यीस्ट में प्रजनन

(Reproduction in Yeast) Notes

यीस्ट में प्रजनन कायिक, अलैंगिक तथा लैंगिक तीन प्रकार का होता है। यीस्ट में जनन निम्नलिखित विधियों द्वारा होता है

कायिक जनन

(Vegetative Reproduction) Notes

यह मुकुलन तथा विखण्डन द्वारा होता है।

  1. मुकुलन द्वारा (By Budding)-उचित वातावरण व प्रचुर मात्रा में पोषक पदार्थों की उपस्थिति में यीस्ट कोशिका से एक या एक से अधिक स्थानों पर एक छोटा-सा उभार (outerowth) निकलता है। ये मुकुल में चला जाता है। एक मत के अनुसार केन्द्रक का विभाजन सूत्री (mitotic) तथा दूसरे मतानुसार एमाइटोटिक (amitotic) होता है। संकीर्णन (constriction) द्वारा परिपक्व मुकुल जनन कोशिका से अलग हो जाती है। मुकलन की क्रिया तेजी के साथ होती है जिससे यीस्ट कोशिकाओं की श्रृंखला-सी (chain) बन जाती है। इसको आभासी कवकजाल (pseudomycelium) कहते हैं। मुकुलन दा क्रिया है। अतः इसको मुकुलन यीस्ट (budding yeast) भी कहते हैं।

    Reproduction In Yeast BSc Notes
    Reproduction In Yeast BSc Notes
  2. विखण्डन द्वारा (By Fission)-कुछ यीस्ट विखण्डन द्वारा जनन करते हैं इनको विखण्डन यीस्ट (fission yeast) भी कहा जाता है; जैसे-शाइजोसैकेरोमाइसीन ऑक्टोस्पोरस । इस क्रिया में पहले यीस्ट कोशिका लम्बाई में बढ़ती है, फिर केन्द्रक तथा कोशिकाद्रव्य दो भागों में बँट जाता है तथा मध्य में एक अनुप्रस्थ भित्ति (transverse wall) बनने से दो कोशिकाएँ बन जाती हैं।

    Reproduction In Yeast BSc Notes
    Reproduction In Yeast BSc Notes

अलैंगिक जनन

(Asexual Reproduction) Notes

प्रतिकूल वातावरण (भोजन तथा 0, की अधिकता) में यीस्ट कोशिका बड़ी हो जाती है। तथा एस्कस बनाती है। इसका केन्द्रक दो बार विभाजित होकर चार केन्द्रक बना चारों तरफ कोशिकाद्रव्य जमा होने से ये एस्कोस्पोर्स की भाँति व्यवहार करते हैं। कभी – कभी 8 एस्कोस्पोर्स भी बनते हैं। ये संरचनाएँ मोटी भित्ति वाली तथा चिरजीवी (perennating) होती हैं। प्रतिकूल वातावरण में ये प्रसुप्त (dormant) रहती हैं। अनुकूल वातावरण में एस्कस की भित्ति फट जाती है तथा स्पोर्स मुक्त हो जाते हैं। ये अंकरित होते हैं तथा मुकुलन द्धारा प्रजनन करने में सक्षम होते हैं।

 


Follow me at social plate Form

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *