Mycoplasma BSc 1st Year Botany Question Answer Notes

Mycoplasma BSc 1st Year Botany Question Answer Notes

 

Mycoplasma BSc 1st Year Botany Question Answer Notes :- BSc 1st Year Botany Cell Biology And Genetics Examination Paper Notes. This Post is very useful for all the Student Botany. This post will provide immense help to all the students of BSc Botany.

 


 

प्रश्न 6 – माइकोप्लाज्मा (Mycoplasma) की संरचना, रासायनिक संघटन तथा इसके द्वारा होने वाले कुछ रोगों के नाम लिखिए। 

उत्तर –

माइकोप्लाज्मा

(Mycoplasma) Notes

ये प्ल्यूरोनिमोनिया की तरह के जीव होते हैं तथा सामान्य रूप से Pleuro- Pneumonia Like Organisms (PPLO) कहलाते हैं। इनके मुख्य लक्षण निम्नलिखित हैं –

(1) इनमें कोशिका भित्ति (cell wall) नहीं होती है तथा ये अचल होते हैं।

(2) ये बहुत बारीक छलनी में से भी निकल जाते हैं तथा लिपिड, प्रोटीन एवं कोलेस्टेरॉल के बने होते हैं।

(3) ये एककोशिकीय अथवा तन्तु के आकार के होते हैं।

Mycoplasma BSc 1st Year Botany Question Answer Notes
Mycoplasma BSc 1st Year Botany Question Answer Notes

(4) इनमें न्यूक्लियर भित्ति तथा मीसोसोम (mesosomes) नहीं होते हैं।

(5) ये लैंगिक प्रजनन नहीं करते हैं। जनन मुकुलन अथवा विखण्डन के द्वारा होता है।

(6) इनका गुणसूत्र वलयाकार तथा DNA द्विरज्जुकी होता है।

(7) गुणसूत्र का भार 1000 x 106 डाल्टन है तथा इसे न्यूक्लिआइड कहते हैं।

(8) इनमें 70S प्रकार के राइबोसोम (ribosomes) होते हैं।

(9) इनमें DNA तथा RNA दोनों होते हैं।

(10) अधिकांश antibiotics; जैसे—पेनिसिलिन इन पर अपना प्रभाव नहीं दिखाती है, परन्तु इन पर टेट्रासाइक्लिन का प्रभाव होता है।

11) ये ऑक्सीजन की उपस्थिति में ही रह सकते हैं।

(12) ये बहुत उच्च प्रकार की pleomorphic कोशिकाएं हैं।

रासायनिक संघटन (Chemical Composition)-Mycoplasm gallisepticum में 8% RNA तथा 4% DNA होते हैं। इसमें बहुत-से घुलनशील प्रोटी तथा ऐमीनो अम्ल उपस्थित होते हैं। इसके कुछ अघुलनशील प्रोटीन भी होते हैं। इसमें बहुत से राइबोसोम (ribosomes) भी उपस्थित होते हैं। इनकी भित्ति लिपोप्रोटीन (lipoprotein) की बनी होती है।

माइकोप्लाज्मा की संरचना (Structure of Mycoplasma) – इनमें कोशिका भित्ति नहीं होती है। इनमें बाहर की ओर एक plasma membrane होती है, जो तीन परत की बनी होती है। यह कोशिकाद्रव्य (cytoplasm) को चारों ओर से ढके रहती है। प्लान भित्ति में स्टेरॉल (sterol) होते हैं। सबसे छोटे Mycoplasma गोल होते हैं, इनका व्याय 0.14 से 0.34 के बीच होता है। इतने छोटे होने के कारण ही ये बारीक से बारीक filters से भी निकलने की क्षमता रखते हैं। RNA तथा DNA दोनों की उपस्थिति के कार Mycoplasma को विषाणु (virus) नहीं कहा जा सकता है।

माइकोप्लाज्मा जनित रोग (Diseases caused by Mycoplasma) 

टॉन्सिलाइटिस (tonsilitis), फेरिंजाइटिस तथा मूत्र की नली की बीमारिया (Urinogenital Tract Infections or UTI) माइकोप्लाज्मा से होने वाले कुछ प्रमुख रोग है।

आलू का विचेजब्रूम मल्बेरी ड्वार्फ, कॉटन लिटिल लीफ, एस्टर येलोज तथा सन्दल स्पाइक आदि माइकोप्लाज्मा जनित पादप रोग हैं।

 


Follow me at social plate Form

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *