Criteria Of Algae Classification BSc 1st Year Botany Notes

Criteria Of Algae Classification BSc 1st Year Botany Notes

 

Criteria Of Algae Classification BSc 1st Year Botany Notes :- BSc 1st Year Botany Long Question Answer. In This Site Dreamtopper.in is very Helpful for all the Student. All type of Notes have been made available on our Site in PDF Study Material Question Answer Paper Previous Questions Unit wise Chapter -wise Syllabus Study Notes Mock Test Paper Available.

 


प्रश्न 6 – शैवालों (Algae) के वर्गीकरण (Classification) में काम आने वाले अभिलक्षणों (criteria) का वर्णन कीजिए। फ्रिट्श (Fritsch) द्वारा सुझाई गई शैवालों के वर्गीकरण की रूपरेखा बताइए। 

उत्तर

शैवालों के वर्गीकरण के अभिलक्षण 

(Criteria of Algae Classification) Notes

शैवालों के वर्णाकरण के लिए बहुत-से आकारिकी, कार्यिकी तथा प्रजनन सम्बन्धी गुणों का काम में लाया गया है। उनमें से कछ अग्रलिखित हैं

(1) केन्द्रक (nucleus) की उपस्थिति या अनुपस्थिति।

(2) चलयुक्त कोशिका (motile cell) की बनावट।

(3) कशाभिकाओं (flagella) की संख्या, लम्बाई तथा प्रकार।

(4) विभिन्न प्रकार के वर्णक (pigments) तथा उनकी मात्रा।

(5) कोशिका भित्ति (cell wall) की बनावट तथा इसका रासायनिक संघटन।

(6) संचित भोजन (reserve food) की किस्में, बनावट तथा रासायनिक प्रकृति।

(7) प्रजनन इकाइयों (reproductive units) के प्रकार।

(8) लैंगिक प्रजनन की उपस्थिति तथा अनुपस्थिति।

शैवालों का वर्गीकरण

(Classification of Algae) Notes

अन्तर्राष्ट्रीय वानस्पतिक नामकरण संस्था (International Code of Botanical Nomenclature or ICBN) ने शैवालों के वर्गीकरण के लिए निम्नलिखित ‘suffixes’ की संस्तुति की है

विभाग (Division) – phyta

वर्ग (Class) – phyceae

गण (Order) – ales

कुल (Family) – ‘aceae

वंश (Genus) – एक लैटिन भाषा का शब्द

जाति (Species) – एक लैटिन भाषा का शब्द

शैवालों के वर्गीकरण के लिए वैज्ञानिकों के विचारों को दो भागों में बाँटा जा सकता है। कुछ वैज्ञानिक जैसे-Pascher (1931), Round (1973) आदि इस विचार के समर्थक हैं जो कि ऐसा सोचते हैं कि ‘algae’ एक division’ के स्तर से ऊपर होते हैं और इसीलिए इन्हें पहले विभिन्न divisions में बाँटा जाना चाहिए और फिर प्रत्येक division को अलग-अलग classes में बाँटा जाना चाहिए। लेकिन अन्य वैज्ञानिकों (Fritsch, 1935, 1945 आदि) के अनुसार सभी ‘algae’ एक division के बराबर होते हैं और इसीलिए इन्हें आगे किसी division में विभाजित नहीं किया जा सकता। इन्हें सिर्फ classes में बाँटा जा सकता है।

इसीलिए शैवाल के उस वर्गीकरण में जो कि पाश्चर, प्रेस्कोट तथा राउण्ड आदि वैज्ञानिकों ने दिया है, algae को पहले विभिन्न divisions में बाँटा गया है तथा फिर विभिन्न divisions में अलग-अलग classes रखी गई हैं। लेकिन Fritsch आदि वैज्ञानिकों के वर्गीकरण में algae को केवल classes में ही बाँटा गया है divisions में नहीं।

फ्रिटश (Fritsch, 1935, 1945) ने शैवालों को निम्नलिखित 11 classes .में बाँटा है

(1) क्लोरोफाइसी (Chlorophyceae), (2) जैन्थोफाइसी (Xanthophyceae), (3) क्राइसोफाइसी (Chrysophyceae), (4) बैसिलेरियोफाइसी (Bacillariophyceae), (5) क्रिप्टोफाइसी (Cryptophyceae), (6) डाइनोफाइसी (Dinophyceae), (7) क्लोरो मोनाडिनि (Chloromonadineae), (8) यूग्लिनिनि (Euglenineae); (9) फियोफाइसी

(Phaeophyceae), (10) रोडोफाइसी (Rhodophyceae), (11) मिक्सोफाइसी phyceae)।

 


Follow me at social plate Form

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *